अमेरिकी जर्नलिस्ट जेम्स फॉली की हत्या के विडियो की पुष्टि

0
85

वॉशिंगटन
अमेरिका ने पत्रकार जेम्स फॉली की हत्या के विडियो की प्रामाणिकता की पुष्टि की है। अमेरिकी पत्रकार जेम्स फॉली का इस्लामिक स्टेट के चरमपंथियों द्वारा ‘सिर कलम’ किए जाने की अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस ने कड़ी निंदा की है। जिहादी ग्रुप आईएस ने फॉली का एक विडियो जारी किया था। इसमें कहा गया था कि फॉली की हत्या, इराक में आईएस के लड़ाकों पर अमेरिकी हवाई हमले का बदला है।

अमेरिकी राष्ट्रपति का कहना है कि कोई भी भगवान इस्लामिक स्टेट की इस कार्रवाई का समर्थन नहीं कर सकता। ओबामा ने कहा कि पत्रकार जेम्स फॉली की हत्या ऐसी घटना है जिसने पूरी दुनिया की अंतरात्मा को झकझोर दिया है।

उन्होंने कहा कि इस्लामिक स्टेट के जेहादी लड़ाकाओं द्वारा अमेरिकी पत्रकार की हत्या से पूरी दुनिया स्तब्ध है। ओबामा ने कहा कि इस कैंसर को फैलने से पहले खत्म करने के लिए सभी लोग साथ आएं। इस दुनिया में ऐसे अमानवीय विचारों की कोई जगह नहीं है। इससे हर कोई सहमत है कि आईएसआईएल जैसे ग्रुप के लिए 21वीं सदी में कोई जगह नहीं है। वाइट हाउस नैशनल सिक्यॉरिटी काउंसिल की प्रवक्ता कैटलिन हेडेन ने कहा, ‘हम अमेरिकी पत्रकार की बर्बर हत्या से हतप्रभ हैं।’ फ्रांस ने कहा कि अगर यह सच है तो यह बहुत ही बर्बर है, जबकि ब्रिटेन ने इसे घृणित कृत्य बताया है।

फॉली ने अमेरिकी अखबार ग्लोबल पोस्ट और फ्रांस की समाचार एजेंसी एएफपी सहित कई मीडिया समूहों के लिए मध्य पूर्व एशिया की काफी रिपोर्टिंग की है। ग्लोबल पोस्ट ने अपने बयान में लोगों से जेम्स और उनके परिवार के लिए प्रार्थना करने को कहा है। सीरिया में रिपोर्टिंग के दौरान आईएस के लड़ाकों ने फॉली का नवंबर 2012 में अपहरण कर लिया था। इससे पहले 2011 में लीबिया में गद्दाफी के खिलाफ बगावत की रिपोर्टिंग के दौरान उन पर जानलेवा हमला हुआ था और उनका अपहरण कर लिया गया था।